What is Color Theory and Color Wheel ?

1
69
Color Theory

Color Theory में Primary Color क्या होता है, Primary color से secondary color कैसे create करते हैं, Primary और Secondary color को mix करके कौन से कलर create होते हैं , किस कलर को Tint कहते हैं, कौन से कलर shadows के लिए होते हैं, ये सब हम आपको बताएंगे|

Color Theory में सबसे पहले Primary Color होते हैं| Primary Color तीन होते हैं Red, Blue, Yellow. Red, Green ,Blue भी जो होते हैं ये भी Primary Color होते हैं, वे RGB color monitor वाली स्क्रीन के कलर होते हैं और RGB कलर को मिलाकर CMYK के कलर बनता है, जो कि प्रिंटिंग के लिए यूज किया जाता है।

Color Theory में Primary Color को mix करके कोई भी कलर बनाया जा सकता है| लेकिन White & Black को छोड़ कर , क्यूंकि ब्लैक एंड व्हाइट कोई कलर्स नहीं होते, वे shades होते हैं| जब आप इन तीनों Primary Color (RBY) कलर को आपस में मिलते हैं, तो जो कलर produce होते हैं वो कहलाते हैं Secondary color.

Color Theory – Secondary color

Color Theory
For Example, जब हम Red और Blue को मिलते हैं, तो Purple कलर क्रिएट होता है, जब Blue और Yellow color मिलाते हैं, तो Green color create होता है और जब Yellow और Red color मिलाते हैं, तो Orange color बनता है| ये जो color wheel हैं आपकी secondary color कहलाती है|

अब आप जब secondary color को आपस में मिलते हैं, तो नेक्स्ट जो कलर create होता है उसे Tertiary color कहते हैं|

Color Theory – Tertiary color

Color Theory

 

Tertiary color यानी के प्राइमरी और सेकेंडरी कलर को जब आपस में मिलते हैं, या secondary color को आपस में मिलते है, तो उन्हें Tertiary color कहते हैं| इन कलर को मिलाकर हमारी Color Theory में Color Wheel Ready हो जाती है| Tertiary color में total 12 color होते हैं|

उसके बाद आता है Color Temperature, क्योंकि कलर पर साइकोलॉजिकल इफेक्ट है| कलर ठंडे और गरम भी होते है| Temperature color की दो कैटेगरी होती है:-

1. Warm Color

2. Cool Color.

Warm Color होते हैं वो Red, Orange और Yellow होते हैं| Cool Color होते हैं वो Purple, Blue और Green होते हैं|

Warm Color में आप देखेंगे कि जो हमारा Sun है उसमें Red, Orange और Yellow तीन कलर की tone है| इसके अलावा Fire में भी इन्ही तीन कलर की tone होती है, इसलिए यह Warm Color होते हैं|

जो Cool color होते हैं, जैसे Blue color आपको पानी में दिखता है, Green आपका Nature का कलर है, जो कलर आपको relax feel कराते हैं, इसलिए वो cool color होते हैं|Hue color का नाम है|

Saturation Color वो होते हैं, जब आप किसी पिक्चर से आप उसमें से कलर खींचते हैं तो धीरे धीरे एक स्टेज आती है कि वो बिलकुल ब्लैक एंड व्हाइट हो जाती है, desaturate हो जाती है, जैसे Red कलर की intensity को कम करते जाते हैं तो एक स्टेज पर आकर ब्लैक हो जाता है, तो किसी कलर को खींचना Saturation कहलाता है|

Tint– किसी solid color में या Pure कलर में जब आप white add करते हैं, तो वह कलर लाइट होता चला जाता है। और एक टाईम पर व्हाइट की स्टेज पर आ जाता है, तो उस कलर को Tint कहते हैं। जैसे Blue कलर में जब हम व्हाइट कलर add करते हैं, तो वो लाइट होते होते व्हाइट हो जाता है एक stage पर। इसमें हमे Blue की जो shadow मिलती है, उसे हम Tint कहते हैं।

Shade – अगर आप किसी कलर में या किसी Pure color में ब्लैक कलर मिलाते हैं, तो इसमें 2 version मिलेंगे आपको एक Light और एक Dark. जो Dark वाला position होता है, वो कहलाता है आपका shade. इसमें जो आपका pure color है जब ब्लैक मिलाएंगे तो धीरे धीरे ब्लैक की तरफ होता चला जायेगा, तो जब Dark version है उसे हम Shade कहेंगे|

Tone – अगर आप किसी pure color में Gray color add करेंगे तो जो आपको बीच में जो shades मिलेंगी वो Tone होती हैं|

Value – आपके कलर की Light और Dark position ही Value कहलाती है|

Monochromatic Scheme – जब आप किसी pure कलर में Tint, Shade और Tone add करेंगे तो जो shades आपको मिलती है, ये Monochromatic Scheme कहलाती है| Mostly ये कलर interior designing में ज्यादा use होते हैं|

Color Theory – Complementary Colors

Color Theory

Complementary Colors – इन कलर्स में Color Theory में Color Wheel के जो opposite color होता है, एक दूसरे के जो opposite color होते हैं वो Complementary Colors कहलाते हैं| जैसे आप Color Wheel में देख सकते हैं, Red color का opposite color है Green, इसी प्रकार Yellow color का opposite color है Purple. तो ये Complementary Colors कहलाते हैं|

Color Theory- Triadic Scheme

Color Theory

Triadic Scheme – जब आप Color Scheme में एक Triangle draw करोगे और वो same space में draw होना चाहिए और उसको जब same position में, same radio मे rotate किया जाता है तो जो आपको 3 कलर मिलेगा वो तीन कलर Triadic Scheme कहलाते हैं| जैसे हम Color Wheel में Triangle draw करेंगे Red से तो उसमें हमें Red, Blue और Yellow मिलेगा, तो ये Triadic Scheme कलर है।

Split Complementary – जब हम Color Theory में Color Wheel से कोई color choose करेंगे और उसके जो opposite color देखेंगे जो Complementary कलर आपको मिलेगा, उसके right और left side मे आपको जो कलर मिलते हैं, वो आपके Split Complementary कलर कहलाते हैं| जैसे Color Theory में Color Wheel मे आपने चूज कर लिया Green और Green के opposite color है Red और Red के left और right में orange and red purple है| ये कलर Split Complementary कलर है|

Color Theory

Color Theory

Rectangle (Triadic) – जब आप Color Wheel में rectangle draw करते हैं और जो 4 corners होते है rectangle के, उसमें जो कलर सलेक्ट होते हैं, वो Rectangle कलर कहलाते हैं|

Square Scheme – जब आप Color Theory में Color Wheel में Square draw करेंगे means Squareवो होता है जिसकी height और width एक समान होती है, तो उसके कॉर्नर में जो सलेक्ट होंगे कलर, वो Square Scheme कहलाते हैं|

Analogs Color – जब आप Color Theory में Color Wheel में एक तरफ से कोई भी दो से चार color यूज करते है अपने डिजाइन में, तो वो कलर Analogs Color कहलाते हैं।

Color Theory में अब कई बार ऐसा होता है कि जो art work हम कम्प्यूटर पर बनाते हैं, वो कम्प्यूटर पर अच्छा दिखता है, पर जैसे ही हम उसे Print करते हैं, वो अजीब दिखने लग जाता है| उसके colors जो होते है वो अजीब दिखने लग जाते हैं| तो उसके कई सारे reason हो सकते हैं, जैसे CMYK की जगह RGB mode होना, या फिर आप जो monster यूज़ कर रही है, उसके brightness or contrast में गड़बड़ होना, या फिर उसके colors में गड़बड़ होना, या कुछ और reasons हो सकते हैं| Color Theory में लेकिन जो main reason होता है वो colors की full information graphic designer को ना होना होता|

Color Theory – PMS Color

Color Theory
सारी दुनिया में मिलने वाले color को Pantone company ने एक system को जन्म दिया है, जिसका नाम है PMS (Pantone Matching System). Color Theory में PMS कलर की एक Global lanuage है, जो हर तरफ all over world मे एक ही है|

जैसे आप कोई Logo या Voucher डिजाइन कर रहे हैं और उसे आपको भेजना है प्रिंट होने ऑस्ट्रेलिया मे| ऑस्ट्रेलिया का जो आपका client है या फिर जो Print कर रहा है, उस डिजाइन को, वो आपसे PMS color की demand करता है| जैसे ही आप PMS code Client को दे देते हैं वह उस डिजाइन को print कर देता है, और उसका Output color बिलकुल भी different नहीं होता है|

Normally हम सब लोगों को पता है कि CMYK मे प्रिंटिंग होती है, CMYK चार अलग अलग inks एक जगह आते हैं और एक कलर produce करते हैं और उसको पेपर पर print करते हैं| वो हो सकता है दुनिया में अलग अलग जगह पर अलग अलग qualities की ink बनती है, जिस वजह से colors इधर उधर नज़र आते हैं, इसीलिए Pantone एक ऐसा ink है जो सारी दुनिया मे एक ही क्वालिटी के हैं|

कई बार डिजाइनर के साथ ऐसा होता है की वो Color Theory में CMYK Mode में काम कर रहे होते हैं computer पर और सारे कलर्स वो CMYK के अनुसार decide करते हैं और print करते हैं, लेकिन फिर भी colors में बहुत सारे diffrence नज़र आते हैं| ऐसे problems ना हो, तो बेस्ट होता है आप PMS use करे क्यूंकि PMS ही हेल्प करता है, जो आपको स्क्रीन पर दिखता है almost ऐसे ही color पेपर पर print करने के लिए|

अब हम Color Theory में PMS color Code निकालते कैसे हैं, तो इसके लिए हमें ऑनलाइन Tool use करते हैं, वैसे तो ऑनलाइन बहुत सारे tools , ये PMS Code निकालने के लिए, लेकिन मैं आपको यहाँ पर इसकी साइट बता रही हूँ, जहाँ से आपको CMYK to PMS code convert करने में मदद करता है|

आपको जिस कलर का कोड चाहिए उसका CMYK color code note कर ले और उस साइड को ओपन करें| Color Theory में उस site का लिंक मैं यहाँ दे रही हूँ| अब इस साइट पर आप ये CMYK code enter करें, एंटर करते ही आप देखेंगे की स्क्रीन पर आपको PMS code show होने लगेंगे| वहाँ से आप PMS code Generate कर सकते है|

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here